Faiz Love Shayari Collection

फैज़ अहमद फैज़ की प्यार भरी शायरी – Love Shayari

अगर शरर है तो भड़के जो फूल है तो खिले,
तरह तरह की तलब तेरे रंग-ए-लब से है।
Agar Sharar Hai Toh Bhadke Jo Phool Hai Toh Khile,
Tarah Tarah Ki Talab Tere Rang-e-Lab Se Hai.

लौट जाती है उधर को भी नज़र क्या कीजे,
अब भी दिलकश है तेरा हुस्न मगर क्या कीजे।
Laut Jaati Hai Udhar Ko Bhi Najar Kya Keeje,
Ab Bhi DilKash Hai Tera Husn Magar Kya Keeje.

तू जो मिल जाये तो तक़दीर निगूँ हो जाये,
यूँ न था मैने फ़क़त चाहा था यूँ हो जाये।
Tu Jo Mil Jaye Toh Taqdeer Nigoon Ho Jaye,
Yun Na Tha Maine Faqat Chaha Tha Yun Ho Jaye.

उठ कर तो आ गए हैं तिरी बज़्म से मगर,
कुछ दिल ही जानता है कि किस दिल से आए हैं।
Uthh Kar Toh Aa Gaye Hain Teri Bazm Se Magar,
Kuchh Dil Hi Jaanta Hai Ki Kis Dil Se Aaye Hain.

इक तर्ज़-ए-तग़ाफ़ुल है सो वो उन को मुबारक,
इक अर्ज़-ए-तमन्ना है सो हम करते रहेंगे।
Ik Tarz-e-Tagaful Hai So Woh Unko Mubarak,
Ik Arz-e-Tamanna Hai So Hum Karte Rahenge.

ये आरज़ू भी बड़ी चीज़ है मगर हमदम,
विसाल-ए-यार फ़क़त आरज़ू की बात नहीं।
Yeh Aarzoo Bhi Badi Cheez Hai Magar Humdum,
Visaal-e-Yaar Faqat Aarzoo Ki Baat Nahi.

वो आ रहे हैं वो आते हैं आ रहे होंगे,
शब-ए-फ़िराक़ ये कह कर गुज़ार दी हम ने।
Woh Aa Rahe Hain Woh Aate Hain Aa Rahe Honge,
Shab-e-Firaaq Yeh Keh Kar Gujaar Di Hamne.

शाम-ए-फ़िराक़ अब न पूछ आई और आ के टल गई,
दिल था कि फिर बहल गया जाँ थी कि फिर सँभल गई।
Shaam-e-Firaaq Ab Na Puchh Aayi Aur Aa Ke Tal Gayi,
Dil Tha Ki Phir Bahal Gaya Jaan Thi Ki Phir Sambhal Gayi.

ये अजब क़यामतें हैं तेरी रहगुजर में गुजारी,
न हो कि मर मिटें हम न हो कि जी उठें हम।
Yeh Ajab Qayamatein Hain Teri Rahgujar Mein Gujaari,
Na Ho Ke Mar Mitein Hum, Na Ho Ke Jee Uthein Hum.

गुलों में रंग भरे बाद-ए-नौ-बहार चले,
चले भी आओ कि गुलशन का कारोबार चले।
Gulon Mein Rang Bhare Baad-e-Nau-Bahaar Chale,
Chale Bhi Aao Ki Gulshan Ka Karobaar Chale.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *