Love Shayari, Tujhe Chahte Hue

एक उमर बीत चली है तुझे चाहते हुए, तू आज भी बेखबर है कल की तरह।
मुकम्मल ना सही अधूरा ही रहने दो, ये इश्क़ है कोई मक़सद तो नहीं है।

वजह नफरतों की तलाशी जाती है, मोहब्बत तो बिन वजह ही हो जाती है।
गुफ्तगू बंद न हो बात से बात चले, नजरों में रहो कैद दिल से दिल मिले।

है इश्क़ की मंज़िल में हाल कि जैसे, लुट जाए कहीं राह में सामान किसी का ।

Ek Umar Beet Chali Hai Tujhe Chahte Hue,
Tu Aaj Bhi BeKhabar Hai Kal Ki Tarah.
Muqammal Na Sahi Adhoora Hi Rahne Do,
Ye Ishq Hai Koi Maqsad Toh Nahi Hai.

Wajah Nafraton Ki Talaashi Jaati Hai,
Mohabbat Toh Bin Wajah Hi Ho Jaati Hai.
Guftgoo Band Na Ho Baat Se Baat Chale,
Bajron Mein Raho Qaid Dil Se Dil Mile.

Hai Ishq Ki Manzil Mein Haal Ke Jaise,
Lut Jaye Kahin Raah Mein Saman Kisi Ka.।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *