Love Shayari, Tumhari Chahton Ke Phool

Love Shayari, Tumhari Chahton Ke Phool

ये मत कहना कि तेरी याद से रिश्ता नहीं रखा,
मैं खुद तन्हा रहा मगर दिल को तन्हा नहीं रखा,
तुम्हारी चाहतों के फूल तो महफूज़ रखे हैं,
तुम्हारी नफरतों की पीर को ज़िंदा नहीं रखा।

सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली,
एक तुझको भूल जाने की मोहलत नहीं मिली,
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली।

खुली जो आँख तो न वो था न वो ज़माना था,
बस दहकती आग थी तन्हाई थी फ़साना था,
क्या हुआ जो चंद ही क़दमों पे थक के बैठ गए,
तुम्हें तो साथ मेरा दूर तक निभाना था।


Yeh Mat Kehna Ke Teri Yaad Se Rishta Nahi Rakha,
Main Khud Tanha Raha Magar Dil Ko Tanha Nahi Rakha,
Tumhari Chahton Ke Phool Toh Mehfooz Rakhe Hain,
Tumhari Nafraton Ki Peer Ko Zinda Nahi Rakha.

Sab Kuchh Mila Sukoon Ki Daulat Nahi Mili,
Ek Tujhko Bhool Jaane Ki Mohlat Nahi Mili,
Karne Ko Bahut Kaam The Apne Liye Magar,
Humko Tere Khayal Se Kabhi Fursat Nahi Mili.

Khuli Jo Aankh Toh Na Wo Tha Na Wo Zamana Tha,
Bas Dehakati Aag Thi Tanhayi Thi Fasaana Tha,
Kya Hua Jo Chand Hi Kadmon Pe Thak Ke Baith Gaye,
Tumhein Toh Saath Mera Dur Tak Nibhana Tha.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *